सुपारी का बकाया रुपये लेने आया दूसरा शूटर गिरफ्तार

By | February 18, 2021

 

gaurav singh

आजमगढ़ से मिर्जापुर सुपारी का बकाया रुपये लेने शूटर को देहात कोतवाली पुलिस व स्वाट व एसओजी की टीम ने सरैया बाजार से गिरफ्तार कर लिया। पूर्व प्रधान की हत्या में शूटर शामिल था। आरोपी के पास तमंचा व कारतूस बरामद हुआ। अभियुक्त किस व्यक्ति से सुपारी का बकाया रुपये लेने आया था। पुलिस ने इस बारे में कुछ भी बताने से इंकार कर दिया। सोमवार एएसपी सिटी संजय वर्मा ने मामले का खुलासा किया। वहीं, पूर्व प्रधान की हत्या के साजिशकर्ता प्रबंधक को पुलिस अभी तक नहीं पकड़ सकी। एएसपी सिटी ने बताया कि 20 नवबंर 2020 की रात देहात कोतवाली के बेलहरा मोड़ के पास बाइक सवार बदमाशों ने मड़िहान के हर्दी खुर्द गांव निवासी पूर्व प्रधान राजेश यादव की गोली मारकर हत्या कर दिए थे। पुलिस ने हत्याकांड में शामिल शूटर समेत आठ आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। हत्याकांड में शामिल दूसरा शूटर फरार चल रहा था। पुलिस दूसरे शूटर की तलाश में जुटी थी। पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली कि दूसरा शूटर देहात कोतवाली सरैया बाजार शराब के ठेके के पास आया है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने वांछित शूटर को पकड़ लिया। आरोपित आजमगढ़ के जीयनपुर थाना क्षेत्र के सुल्तानपुर छपरा निवासी गौरव सिंह बादल के पास 312 बोर का तमंचा व जिंदा कारतूस बरामद हुआ। पुलिस अभियुक्त को जेल भेज दिया। एएसपी सिटी ने बताया कि अभियुक्त अपने साथी कुनाल सिंह उर्फ भूपेन्द्र सिंह के साथ पूर्व प्रधान की हत्या में शामिल था। हत्या की सुपारी का बकाया रुपये लेने वह मिर्जापुर आया था। लेकिन पुलिस ने सुपारी का पैसा लेने से पहले ही उसे पकड़ लिया। बताया कि फरार चल रहे साजिशकर्ता प्रबंधक के घर दबिश दी जा रही है। जल्द ही फरार प्रबंधक को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

अभियुक्त गौरव सिंह बादल आजमगढ़ का रहने वाला है। वह मिर्जापुर में पूर्व प्रधान हत्याकांड से अपराध के दलदल में फंस गया। जिसका नाम पूर्व प्रधान की हत्या में शामिल दूसरे शूटर के रुप में आया है। अभियुक्त का कोई अपराधिक इतिहास नहीं है। पूर्व प्रधान की हत्या में शामिल होना ही उसका पहला अपराध है। एएसपी सिटी संजय वर्मा ने बताया कि अभियुक्त गौरव इंटर के बाद आईटीआई की पढ़ाई कर रहा था। कुछ महीने पहले आजमगढ़ उसके घर के पास एक विवाद हुआ था। जिसमें हवाई फायरिंग हुयी थी। जिसमें स्थानीय बदमाशों ने हवाई फायरिंग में उसका नाम आने का हवाला देकर अपने साथ ले गए। बदमाश उसे पुलिस से बचाने की बात कहते हुए लखनऊ स्थित एक होटल में कई दिनों अपने रखा। उसके खाने पीने का सारा खर्च उठाया। बीस दिनों तक उसे अपने पास रखने के बाद पुलिस से बचाने व रुपये कमाने का लालच देकर जुर्म दुनिया में ढकेल दिया। अभियुक्त गौरव का बदमाशों ने पूर्व प्रधान की हत्या में शामिल कर दूसरे शूटर के रुप में उपयोग किया। जिसे शूटर कुनाल के साथ पूर्व प्रधान की हत्या में शामिल रहा। एएसपी सिटी ने बताया कि अभियुक्त गौरव ने यदि पहले पुलिस या अपने घरवालों से मिलकर हवाई फायरिंग में नाम आने की बात को साफ कर लिया होता तो आज वह अपराध की दुनिया से दूर रहता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *